share market me brokerage charges, हो सकता करोड़ का नुकसान?

शेयर बाजार विभिन्न प्रकार के शुल्क

share market me brokerage charges जब आप शेयर बाजार में व्यापार कर रहे हैं, तब इसके साथ जुड़े कई शुल्क शामिल होते हैं। इसमें सुरक्षा लेनदेन कर, सेवा कर, मोहर शुल्क, दलाली शुल्क और अन्य विभिन्न प्रकार की शुल्के शामिल रहती हैं। इसमें दलाली शुल्क और अन्य सबसे आम बात है। दलाल ऐसे एजेंट होते हैं, जो शेयर्स के भावी सौदों विकल्प और विभिन्न वित्तीय साधनों को खरीदने अथवा बेचने में हमारी सहायता करते हैं।

share market me brokerage charges, हो सकता करोड़ का नुकसान?
share market me brokerage charges
दलालों के प्रकार

दलालों के द्वारा पेश गई सेवाओं के आधार पर यह दो प्रकार के होते हैं-

पूर्ण सेवा दलाल

पूर्ण सेवा दलाल पारंपरिक दलाल होते हैं। उनकी सेवाओं में शेयर्स मुद्रा और वस्तु में व्यापार के साथ उनकी सहायता शामिल होती है। वे आपके लिए कई प्रकार के शोध करते हैं। आपकी बिक्री और संपत्ति का प्रबंधन और आपको विशेषज्ञ सलाह प्रदान करने का कार्य करते हैं। वे आपको बैंकिंग के लिए धनराशि भी प्रदान करते हैं। पूर्ण सेवा दलालों के शुल्क दोनों इंट्राडे और वितरण व्यापार पर 0.01% से 0.50% तक सीमित हो सकते हैं।share market me brokerage charges, हो सकता करोड़ का नुकसान?

डिस्काउंट ब्रोकर

छोटे दलाल एक अत्यधिक कुशल निष्पादन मंच प्रदान करने का कार्य कहते हैं। जिनका उपयोग आप शेयर्स और कमोडिटीज में व्यापार करने के लिए कर सकते हैं। उनका शुल्क कम होता है और वे कोई निवेश सलाह प्रदान नहीं करते हैं। यह दलाल इंट्राडे और वितरण व्यापार के मामले में प्रति व्यापार एक निश्चित शुल्क को लेते हैं। इनमें से कुछ दलालों के वितरण व्यापार के लिए कोई शुल्क लेने का कार्य नहीं करते हैं।

भारत में दलाली की तीन केस में योजनाएं 

कुछ प्रमुख योजनाएं निम्नलिखित रूप से हैं –

  • व्यापारिक आयतन की प्रतिशत के आधार पर
  • एक समान दलाली जिसका प्रति व्यापार शुल्क लिया जा सकता है
  • मासिक रूप से व्यापारिक योजना जो आज सीमित है
दलालों की शुल्कों को समझना

आपको याद रहना चाहिए कि, किसी दलाली शुल्क का भुगतान शेयर खरीदने और बेचने दोनों के दौरान किया जाना चाहिए। आपको कुछ दलाल मिल सकते हैं, जो इसके अपवाद हैं। जिसमे केवल एक बार के शुल्क लेते हैं या तो खरीद या बिक्री के लिए। यदि हमारा सोचना है, कि शेयर बाजार में दलाली की गणना कैसे करें तो इस उदाहरण से आपको समझने में आपको सहायता मिलेगी। share market me brokerage charges, हो सकता करोड़ का नुकसान?

माना कि कोई दलाल पार्टी व्यापार पर 0.05% का शुल्क चार्ज करता है, इसका मतलब है

दलाली शुल्क का कुल कारोबार का 0.05% माना गया है।

मान लीजिए कि, आपके द्वारा खरीदे गए शेयर्स की कुल लागत ₹100 है। फिर जारी शुल्क ₹100 का 0.05% है, जो दलाली 0.05 रुपए होगी। फिर व्यापार पर कुल दलाली का 0.05 रुपए होगा।

उपयोगकारी सलाह

आखिरकार दलाल का चयन करने के तत्पश्चात आपको यह सुनिश्चित करना होगा। वह आपके लेनदेन पर जो दलाली लागू कर रहा है, उस प्रस्ताव से मैच खाता है जिस पर आप दोनों सहमत हुए हैं और आपको दलाली की जांच करने की भी आवश्यकता होगी, जो आवधिक अंतराल पर लागू होती है।

शुल्क राशि का रखरखाव

एक मूल्य राशि जैसे वार्षिक रखरखाव शुल्क के रूप में वर्गीकृत किया गया है। आपके खाते से दलाल द्वारा शुल्क काट ली जाती है। इन शुल्कों के बारे में भी पूछताछे कर सकते हैं। यदि एएमसी शुल्क हर महीने काट लिया जाए, तब आपके द्वारा निवेश किए गए निधि के एक हिस्ट्री को चार्ज के रूप में काट लिया जाता है। उस स्थिति में शुरुआत में एक साथ राशि का भुगतान करना बेहतर होता है और मासिक एएमसी शुल्क समाप्त हो जाता। एकमात्र राशि का आंकड़ा 500 से 750 रुपए के एक बार भुगतान के आसपास हो जाना चाहिए।share market me brokerage charges, हो सकता करोड़ का नुकसान?

प्रभावी शुल्क दर 

प्रभावी रूप से किए जाने वाली दलाली की दर ऊपर दिए गए प्रश्न से अलग हो सकती है। दलाली के अलावा अन्य संबंधित शुल्क भी होती है, जिन पर आपको विचार करने की आवश्यकता होती है। इस सूत्र का उपयोग करके शुद्ध व्यापार लागत की गणना की जा सकती है।

व्यापार लागत = दलाली + प्रतिभूति लेनदेन कर + स्टैंप ड्यूटी + अन्य शुल्क

निष्कर्ष

कई दलाल व्यापारिक कार्यों के लिए उपलब्ध होते हैं। इसके लिए आपके पास विकल्प काफी हो सकते हैं। दलाल द्वारा लिया गया दलाली शुल्क दलाल के लिए आए का साधन हो सकता है। तब व्यापारियों को आकर्षित करने के लिए दलाल कम दलाली की पेशकश करते हैं। यदि आप उन्हें शेयर्स की उच्च मात्रा दें और यदि कम मात्रा की पेशकश करें। तो एक उच्च शुल्क के इंट्राडे दलाली शेयर्स का आमतौर पर वितरण शुल्क से कम हो सकता है। तब विभिन्न दलालों द्वारा पेश शुल्कों को देखें और आजमाइश के बाद ही चुनना चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – शेयर मार्केट में ब्रोकर कितना कमीशन लेता है?

 

प्रश्न – सबसे बेस्ट ब्रोकर कौन सा है?

उत्तर – जीरोधा सबसे अच्छा ब्रोकर माना जाता है।

प्रश्न – स्टॉक पर कमीशन कौन देता है?

उत्तर – स्टॉक पर कमीशन ब्रोकर को निवेशक देते हैं।

प्रश्न – भारत में सबसे सस्ता ब्रोकर कौन सा है?

उत्तर – पेटीएम मनी सबसे सस्ता ब्रोकर है।

प्रश्न – एक सब ब्रोकर कितना कमाता है?

उत्तर – एक सब ब्रोकर 30000 से ₹100000 तक कमा सकता है।

प्रश्न – शेयर मार्केट में 1 दिन में कितना कमा सकते हैं?

उत्तर – यह आपके निवेश अथवा ज्ञान की दक्षता पर निर्भर करता है।

यह भी पढ़े 

क्रिप्टो करेंसी में निवेश कैसे करें? इन विकिपीडिया

भारत में क्रिप्टो करेंसी के भविष्य क्या है? इन विकिपीडिया

क्रिप्टो करेंसी इंडिया में बैन क्यों है? इन विकिपीडिया

 

Leave a comment